मेरे ब्लॉग परिवार के सदस्य

मंगलवार, 6 मार्च 2012

कविता


आप सभी को होलीबहुत बहु मुबारक हो 

.........कहीं ये अर्थ न खो दें 
________________________________________

मनोभावों को करते व्यक्त 
सारे रंग होली के 
बहुत सुंदर ,बहुत गहरे हैं 
सारे रंग होली के 

ये पीले, लाल, नारंगी
हरे, नीले , गुलाबी सब 
छिपाए अपने अंदर 
रंग, हैं भंडार अर्थों का
सभी रंगों के अर्थों में 
मिलेगी भिन्नता, लेकिन
कोई इक चीज़ है जो
इन सभी रंगों में साझी है
वो है संवेदना
जो प्यार की भाषा समझती है,
वो है सद्भावना 
जो मित्रता की बात करती है ,
ये हैं संदेश देते 
एकता के और समन्वय के
नहीं कोई बड़ा-छोटा,
न कोई रंक न राजा

यही हम सुनते आए थे 
यही अनुभव हमारा था
मगर मुझ में न जाने क्यों
ये पिछले चंद सालों से
पनपने सा लगा इक भय
कहीं ये प्यारे सुंदर रंग 
अपने अर्थ न खो दें 

कहीं टेसू के फूलों की जगह
तेज़ाब न ले ले ?
कहीं सद्भावना, दुर्भावना से 
हार न जाए ?
कहीं आरक्षणों का विष
रहीम और राम के मन से 
समन्वय को हटा कर
एकता को नोच न फेंके ?

न जाने कितने लोगों का 
यही इक भय जो 
सोते जागते हर दम 
हमारा पीछा करता है
कहीं ये प्यारे प्यारे रंग
अपने अर्थ न खो दें ?

चलो अपनी जगह हम सब
यही बस एक प्रण कर लें
यही दृढ़ता से निर्णय लें
न होने देंगे कम 
सौंदर्य हम होली के रंगों का

हमें इनकार है 
दुनिया की सारी ऐसी चीज़ों से
विचारों की जो सुंदरता को 
कर दें नष्ट दुनिया से 
न खोने देंगे हम,कोई भी
क़ुदरत का हसीं तोहफ़ा
न धुंधला होने देंगे अर्थ
इन होली के रंगों का 
_________________________________________

28 टिप्‍पणियां:

  1. गहन भावों को समेटे हुये और एक सार्थक संदेश देती हुई खूबसूरत रचना ॥

    होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    रंगों की बहार!
    छींटे और बौछार!!
    फुहार ही फुहार!!!
    रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ!!!!
    नमस्कार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर और सार्थक सन्देश देती हुई कविता है|

    होली की ढेर सारी मुबारकबाद|

    उत्तर देंहटाएं
  4. साथ रंग हैं तो सुन्दर हैं, अलग अलग तो मान नहीं है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली की बधाई। आपकी कविता सोचने पर मजबूर करती है..

    उत्तर देंहटाएं
  6. कितनी सहजता से बड़ी बात समझा गई हो ....
    इन्द्रधनुष से लेकर सात रंग
    घोला है इसमें मैंने आठवां रंग - स्नेह का , दुआओं का , आशीषों का
    होली की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आशा और विश्वास के रंगों से सजी होली से विश्वास उठाना ठीक नहीं ... कुछ तत्व रंग में भंग कर देते हैं ... उन्हें नादाँ समझना चाहिए ... होली के रंग में सब रंग एक हो जाने चाहियें ,,,

    आपको और आपके समस्त परिवार को होली की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति| होली की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही खूबसूरत रचना....
    और बेहद सार्थक भी...

    आपको भी होली बहुत बहुत मुबारक हो ....
    सतरंगा जीवन हो.........

    उत्तर देंहटाएं
  10. .


    उफ़्फ़ ! क्या समस्या है ?
    मैं इस ख़ूबसूरत कविता पर टिप्पणी लिख कर गया था …

    बहुत आभार और बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  11. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुन्दर रंग भरी रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही बढ़िया
    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. Holi ke mahatva aur uddeshay ko
    poorn roop se samajhaati huee
    bahut sundar kavitaa !

    MUBAARAKBAAD .

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहूत सुंदर सार्थक रचना है..
    लाजवाब प्रस्तुती..
    होली पर्व कि ढेर सारी शुभ कामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  16. मनन करने योग्य सुन्दर रचना..होली की शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर प्रस्तुति होली की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  18. gahan bhav ko samete huye sundar rachna ,tumahari ichchha poori ho ,happy holi .

    उत्तर देंहटाएं
  19. हमें इनकार है
    दुनिया की सारी ऐसी चीज़ों से
    विचारों की जो सुंदरता को
    कर दें नष्ट दुनिया से
    न खोने देंगे हम,कोई भी
    क़ुदरत का हसीं तोहफ़ा
    न धुंधला होने देंगे अर्थ
    इन होली के रंगों का
    एकदम. मुझे भी इंकार है ऐसी सब चीज़ों से. शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सामाजिक सन्दर्भ में समरसता और समन्वय का सुँदर उदहारण है होली . बस हम उसकी आत्मा के साथ खिलवाड़ ना करे . सुँदर गीत . होली की हार्दिक शुभकामनाये . आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  21. hamein koshish karte rahna chahiye ki aisa n ho .....
    hmare ghar ki sfai देख आस पास के log bhi ghar saf rakhna shuru kar dete hain ....

    sunder bhav......

    aap ki baat ka jwaab blog pe de diya hai .....

    उत्तर देंहटाएं
  22. गहन भावों को समेटे हुये और एक सार्थक संदेश देती हुई खूबसूरत रचना,बेहतरीन प्रस्तुति.......

    MY RESENT POST ...काव्यान्जलि ...:बसंती रंग छा गया,...

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही बेहतरीन रचना....

    मेरे ब्लॉग
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  24. फेसबुक पर यह नज़्म पढ़ी थी. सचमुच सभी रंग अपना अर्थ खोते जा रहे हैं. यह इस दौर की विडंबना है

    उत्तर देंहटाएं

ख़ैरख़्वाहों के मुख़्लिस मशवरों का हमेशा इस्तक़्बाल है
शुक्रिया