मेरे ब्लॉग परिवार के सदस्य

शनिवार, 2 अप्रैल 2011

एक  कविता प्रस्तुत है
इसे शायद आप ने रश्मि प्रभा जी के blog पर भी पढ़ा होगा
ये विषय भी उन का ही दिया हुआ है
आभारी हूँ रश्मि जी की ,  जिनके कारण इस कविता का अस्तित्व है
उन के विषय पर मेरे भावों का जो प्रभाव है वो आप के समक्ष है


 उसके नाम
___________



लिख पाती ’उस के नाम’ अगर
मैं अपने सारे सुख लिखती
उस के मन की अंगनाई में
वासंती रुत छाई रहती
उस के जीवन की बगिया में
फूलों के रंग बिखर जाते
वो जिस की बातों में खो कर
सदियों से प्यासी रूहें भी
सपने बुनतीं ख़ुशहाली के
वो जिस के शब्दों की माया
वो जिस की मर्यादित काया
मानवता के पथ पर चलकर
करती उद्धार चरित्रों का
करती उपचार विचारों का

’उस’ जीवन की अफ़रा तफ़री
’उस’ मन के अंतर्द्वन्द्व सभी
’उस’ दिल में बसे दुख दर्दों को
मैं हर न सकी तो जीवन क्या ?

पर वो जो भाग्य विधाता है
बस वो ही क़िस्मत लिखता है
कुछ वश में अगर मेरे होता
मैं उस के सारे दुख हरती
लिख पाती उस के नाम अगर

                                                           तो अपने सारे सुख लिखती

27 टिप्‍पणियां:

  1. सबको सुख देने की इच्छा तो रहती है पर जग में ऐसा सम्भव नहीं हो पाता है। बड़ी सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती ...

    बहुत ही भावमय करते हुये शब्‍द हैं और खूबसूरत अहसासों को आपने इन पंक्तियों में उतारा है ...आभार इस बेहतरीन प्रस्‍तुति का ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बड़ी मासूम प्यारी सी दुआ है ..
    आपकी उर्दू और हिंदी पर समान पकड़ है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. उस’ जीवन की अफ़रा तफ़री
    ’उस’ मन के अंतर्द्वन्द्व सभी
    ’उस’ दिल में बसे दुख दर्दों को
    मैं हर न सकी तो जीवन क्या ?


    लाजवाब कर दिया आपकी इन पंक्तियों ने...आपतो कमाल की लेखिका हैं...शायरी भी करती हैं तो कविता भी...वाह...यूँ ही लिखती रहें...आमीन

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. लिख पाती ’उस के नाम’ अगर
    मैं अपने सारे सुख लिखती
    उस के मन की अंगनाई में
    वासंती रुत छाई रहती
    उस के जीवन की बगिया में
    फूलों के रंग बिखर जाते.....

    कविता के कोमल भाव मन को स्पंदित कर रहें हैं !
    सुन्दर प्रस्तुति हेतु आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती....

    ...सही बात है. ऊपरवाले की मर्ज़ी के आगे इंसान का कोई वश नहीं चलता......बहुत ही भावपूर्ण नज्म है ये.....मुबारक हो.... आपको भी और इसकी प्रेरणा स्रोत बनी रश्मि प्रभा जी को भी...
    ---देवेंद्र गौतम

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीया दीदी इस्मत ज़ैदी जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !


    अंतर्लय के निर्वहन का सुंदर उदाहरण है आपकी कविता !

    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती


    व्यष्टि से समष्टि को महत्वपूर्ण मानना ही मानवीयता है ।
    सुंदर भावों से सज्जित इस कविता के लिए आभार और बधाई !

    नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  8. महादेवी वर्मा जी ने एक बार कहा था ,,
    छा जाता जीवन में वसंत
    लुट जाता चिर संचित विषाद
    आँखें देतीं सर्वस्व वार .....

    अनुबद्ध तो नहीं कर रहा हूँ ,
    लेकिन ये काव्य पढ़ कर छायावाद जैसी
    किसी पृष्ठ भूमि की अनुभूति होना स्वाभाविक-सी लगी
    खैर
    भावनाओं को मिले शब्द
    लेखन को
    श्रेष्ठ होने का मान तो दे ही रहे हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  9. ’उस’ जीवन की अफ़रा तफ़री
    ’उस’ मन के अंतर्द्वन्द्व सभी
    ’उस’ दिल में बसे दुख दर्दों को
    मैं हर न सकी तो जीवन क्या ?

    पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती


    बहुत खूबसूरत अहसास.
    खूबसूरत अलफ़ाज़.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती
    bahut hi achchhi rachna ,wo bhet khoobsurat hi hoti hai jiska sambandh dil ki sachchai se ho .

    उत्तर देंहटाएं
  11. पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    खूबसूरत एहसास से भरी सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती
    इसमें वसुधैव कुटुम्बकम से विचार हैं... अद्वैत, अनुपम, विस्तृत

    उत्तर देंहटाएं
  13. दिन मैं सूरज गायब हो सकता है

    रोशनी नही

    दिल टू सटकता है

    दोस्ती नही

    आप टिप्पणी करना भूल सकते हो

    हम नही

    हम से टॉस कोई भी जीत सकता है

    पर मैच नही

    चक दे इंडिया हम ही जीत गए

    भारत के विश्व चैम्पियन बनने पर आप सबको ढेरों बधाइयाँ और आपको एवं आपके परिवार को हिंदी नया साल(नवसंवत्सर२०६८ )की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ!

    आपका स्वागत है
    "गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका!"
    और
    121 करोड़ हिंदुस्तानियों का सपना पूरा हो गया

    आपके सुझाव और संदेश जरुर दे!

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    कुछ वश में अगर मेरे होता
    मैं उस के सारे दुख हरती
    लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती
    बहुत सुन्दर भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  16. लिख पाती ’उस के नाम’ अगर
    मैं अपने सारे सुख लिखती
    इंसान वाक़ई ऐसा सोचने लगता है
    लेकिन,
    आप ही ने कहा है न

    पर वो जो भाग्य विधाता है
    बस वो ही क़िस्मत लिखता है
    बहुत उम्दा रचना है, मुबारकबाद.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत गहरे भाव हैं .... और ऐसे गहरे भाव किसी "उस" के नाम अनायास ही उठ आते हैं ... शायद यही प्रेम के पराकाष्ठा है ...
    अनुपम रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 05 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  19. लिख पाती उस के नाम अगर
    तो अपने सारे सुख लिखती
    lajabab....bemisaal....

    उत्तर देंहटाएं
  20. लिख पाती तो सब सुख लिख देती उसके नाम ...
    उसके लिए इतना सोचना भी कम कहाँ रहा होगा ..
    बेहद सुन्दर भावाभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह इस्मत जी क्या लय का निर्वाह किया है आपने, वाह वाह वाह| बहुत ही दमदार कविता है ये| नमन|
    http://samasyapoorti.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  22. ’उस’ जीवन की अफ़रा तफ़री
    ’उस’ मन के अंतर्द्वन्द्व सभी
    ’उस’ दिल में बसे दुख दर्दों को
    मैं हर न सकी तो जीवन क्या ?


    bahut sundar!
    ek manohari rachna

    उत्तर देंहटाएं
  23. लिख पाती ’उस के नाम’ अगर
    मैं अपने सारे सुख लिखती
    उस के मन की अंगनाई में
    वासंती रुत छाई रहती
    उस के जीवन की बगिया में
    फूलों के रंग बिखर जाते...............
    बहुत खुबसूरत अहसास, खुबसूरत अंदाज़, बेहतरीन फनकारी का मुजायरा आपने इस कविता (नज़्म ) मैं किया है आपको मुबारकबाद दाद कुबूल फरमाएं जिंदाबाद

    उत्तर देंहटाएं
  24. ’उस’ जीवन की अफ़रा तफ़री
    ’उस’ मन के अंतर्द्वन्द्व सभी
    ’उस’ दिल में बसे दुख दर्दों को
    मैं हर न सकी तो जीवन क्या ?

    बस यही सुन्दर सी अदा आपके लुभाती है। बहुत दिनो बाद आयी हूँ जो रह गयी रचनायें पडः रही हूँ। कविता, गज़ल नज़्म कुछ हो आपका सानी नही कोई। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं

ख़ैरख़्वाहों के मुख़्लिस मशवरों का हमेशा इस्तक़्बाल है
शुक्रिया