मेरे ब्लॉग परिवार के सदस्य

मंगलवार, 26 जनवरी 2010

                                          आप सभी को गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें  

२६ जनवरी के अवसर पर एक कविता प्रस्तुत है ,यदि राष्ट्रीय ध्वज बोल पाता तो वो अपनी अभिलाषा कैसे प्रकट करता , कहीं  कोई  बात आपके मन को छू जाये ,तो आशीर्वाद की कामना करती हूँ ,
                                                                                                             धन्यवाद .
राष्ट्रीय ध्वज की अभिलाषा 
________________________________
ध्वज हूँ मैं भारत का मेरी छोटी सी है अभिलाषा ,
पूर्ण करेंगे भारतवासी ऐसी मुझ को है आशा ,
किन्तु इस से पहले कि मैं बात करूँ अभिलाषा की, 
कुछ ऐसे पन्ने मैं खोलूँ जो अतीत के हैं साक्ष


देश का जब अस्तित्व मिटाने शत्रु थे भारत आये 
धोखे से थे गाँव, नगर और राज्य हमारे हथियाए, 
जब पूरे भारत को बैरी दास  बना कर के ख़ुश था, 
    तब सच्चे भारतवासी को उसी दासता का दुःख था.


ऐसे में अगणित वीरों ने मुझ को जीवनदान दिया, 
और देश को आज़ादी का मूल्यवान वरदान दिया ,
जब मैं पहली बार पवन के झोंकों से लहराया था ,
मेरी आँखों में उस दिन ये पहला सपना आया था.


मैं ने देखा देश में चारों ओर थी फैली हरियाली ,
भारतवासी ख़ुश थे  बिखरी सभी ओर थी ख़ुशहाली,
पर जब मेरी आंख खुली मैं चकित हुआ घबराया था ,
देखा चारों ओर थी हिंसा अंधकार सा छाया था .


सहसा मेरे मन में कुछ अभिलाषा के अंकुर फूटे ,
इच्छा है कि जुड़ जाएँ जो सपने थे मेरे टूटे ,
सब भारतवासी हैं भाई ,सभी इसी  को  सच मानें,
भारत माता के लहराते आँचल को पावन जानें . 


नेता सोचें देश के हित में ,निज हित से ऊपर आयें
महाशक्ति के किसी प्रभाव में देश न हम अपना खोएं 
आदर हो ,सम्मान बड़ों का ,बलिदानों का अर्चन हो 
द्वेष भाव ,कुकर्म ,शत्रुता का दृढ़ता से तर्जन हो


खेतों में गेहूं ही बोयें ,रोपें नहीं वहां हथियार 
बच्चों को दें ज्ञान की ज्योति ,मजदूरी का ले लें भार
अपराधी को मिले सज़ा और  दुखियों को इंसाफ़ मिले 
नारी जाति का आदर हो ,कहीं न कोई नार जले 


ऐसा भारत देश बनाओ जिस पर सब अभिमान करें 
प्रेम ,एकता  और समानता के ही अब तो दीप जलें 
मानवता की औषधि से तुम रोगी का उद्धार करो 
विपदा में हो गर दुश्मन भी ,तुम उसको स्वीकार करो 


मैं भारत की गरिमा हूँ,तुम सब की ज़िम्मेदारी हूँ 
अभिलाषा परिपूर्ण हुई तो मैं सब का आभारी हूँ 


__________________________________________________________________- 








  




20 टिप्‍पणियां:

  1. मोहतरमा इस्मत साहिबा, आदाब
    अपने राष्ट्रीय ध्वज को प्रतीक बनाकर
    आपने कितने गहन सवाल उठाये हैं
    अल्लाह से दुआ है, हमारे गौरव तिरंगे की
    आन-बान-शान बढ़ती ही जाये
    और वो तमाम अभिलाषाएं भी पूरी हों
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस्मत, ये तुम्हारी ये कविता तो मुझे तब से पसन्द है जब तुमने इसे लिखा था. बहुत सुन्दर और सार्थक रचना है ये. ध्वज की तमाम अभिलाषाएं पूरी हों ऐसी दुआ करती हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत उम्दा रचना!

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मानवता की औषधि से तुम रोगी का उद्धार करो

    बहुत ही सार्थक रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सार्थक रचना!



    कविता बहुत पसंद आई
    हर शब्द सच हो, ध्वज की अभिलाषा पूरी हो
    भारत बहुत उन्नति करे

    इस्मत गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. वन्देमातरम !
    ध्वज की पूरी हो अभिलाषा ! यही कामना उपजती है मन में, तुम्हारी ये कविता पढ़ के !
    सप्रीत-आ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. माननीय इस्मत जैदी साहिबा

    जो तिरंगा हमारी आन बान शान है
    जिसके लिए आज़ादी की जंग में सपूतों ने कुर्बानियां दी
    सुहागिनों ने अपने सिंदूर दे दिए कल भी और आज भी हर हिदुस्तानी अपना
    सब कुछ निछावर करना अपना धर्म मानता है राष्ट्र धर्म -फिर भला उसकी
    अभिलाषा पूर्ण होने में कोई संदेह ही नहीं -बहुत उम्दा बहुत अच्छे ख्याल हैं आपके ह्रदय से
    धन्यवाद आपको इतनी अच्छी रचना के लिए
    जगदीश तपिश

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस्मत जी, आपकी यह कविता बहुत महत्वपूर्ण है. रचना काबिले-तारीफ़ तो है ही राष्ट्रीयता से लबरेज़ है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं भारत की गरिमा हूँ,तुम सब की ज़िम्मेदारी हूँ
    अभिलाषा परिपूर्ण हुई तो मैं सब का आभारी हूँ ..

    कुछ बहुत ही संजीदा प्रश्न खड़े किए हैं आपने इस प्रभावी रचना के द्वारा ......... बहुत अच्छी लगी ये कविता .........

    उत्तर देंहटाएं
  10. तिरंगे की अभिलाषा को अपनी जबान दे कर आप ने अपने पाक जज्बों का जो इज़हार किया है, हर भारतवासी के मन में उस के लिए प्यार और अकीदत होना लाजिमी है.
    आप अच्छा ही नहीं, बहुत अच्छा लिख रही हैं. इतने मुश्किल टॉपिक को जिस आसानी से आपने डील किया है, मुबारकबाद की मुसतहिक़ हो गईं हैं आप.

    उत्तर देंहटाएं
  11. shahid sahab,
    vandana ji
    sameer ji
    shahroz sahab
    shraddha ji
    anand ji
    tapish ji
    sulabh ji
    sarwat sahab
    digambar ji aur
    kapila ji
    aap sab ka bahut bahut shukriya ki
    aap sab ne rachna padhne ki zahmat ki ,aap logon ki duaen mujhe kuchh likhne ka hausla bakhshti hain.

    उत्तर देंहटाएं
  12. खेतों में गेहूं ही बोयें ,रोपें नहीं वहां हथियार
    बच्चों को देंज्ञान कीज्योति ,मजदूरी का ले लें भार
    अपराधीको मिले सज़ाऔर दुखियों को इंसाफ़ मिले
    नारी जाति का आदर हो ,कहीं न कोई नार जले

    ऐसी मंशा ,,,
    ऐसी इच्छा,,,
    ऐसी कामना,,,
    काश हर भारतवासी के मन में जागृत हो पाए

    कविता की अभिव्यक्ति ही कविता का सार है
    आपकी भावनाएं
    किसी सुखद आमंत्रण का संकेत बन कर
    स्वयं ही इन शब्दों में मुखर हो रही हैं

    "मानवता की औषधि से तुम
    रोगी का उद्धार करो
    विपदा में हो गर दुश्मन भी,
    तुम उसको स्वीकार करो"

    इन पंक्तियों को पढ़ लेने मात्र से ही
    ह्रदय में दिव्यता की किरणें फूटने लगती हैं ..
    प्रार्थना से सदजीवन की प्रेरणा मिलती है
    और
    आपकी इस पावन प्रार्थना में हम सब शामिल हैं

    इस अनुपम रचना के लिए आभार स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत अच्छा लिखा है मैम...कवि की कल्पना और फिर ध्वज की अभिलाषा के जरिये उस कल्पना को इतना सुंदर रुप दे देना...वाकई...hats off!

    उत्तर देंहटाएं
  14. muflis sahab, ap ne sach kaha prarthna se sadjeevan, ki prerna milti hai ap meri is prarthna men shamil hain bahut bahut dhanyavad
    gautam ji ,bahut bahut shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  15. जैदी साहब
    बेहतरीन रचना
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  16. देशभक्ति की भावना जगाती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  17. dhwaj ke bhavo sakaar ho aisee hee hum sabhee kee abhilasha hai.......
    bahut sunder rachana.......

    उत्तर देंहटाएं
  18. yahi bhavna har dil me lahraye ,jan-jan aapas me ladna bhul jaaye .ek subah wo hum dekhe jab tirango ke sabhi rango me khile sachi muskaan .maathe par na ho sikan ,aur saarthak ho jaaye in rango ke bhav .bahut hi sachchi aur achchhi rachna .

    उत्तर देंहटाएं

ख़ैरख़्वाहों के मुख़्लिस मशवरों का हमेशा इस्तक़्बाल है
शुक्रिया