मेरे ब्लॉग परिवार के सदस्य

सोमवार, 28 मई 2018


कुछ दोहे 
__________


पायल को छनकाय के ,गोरी यूँ शरमाय
छुईमुई की पाति ज्यों, सिमटी सिमटी जाय
****
अहंकार में आग है, देगी सकल जलाय
औषधि है निरमल वचन,, शीतलता भर जाय
****
टिक टिक कर के हर घड़ी, देती यही बताय
जीवन गति का नाम है, जड़ मानुष पछताय
****
मावस की हर रात जब, अँधियारा घिर आय
नन्हा मिट्टी का दिया, उजियारा दे जाय
****
कहाँ गई संवेदना, जो मन को हर्षाय
जग बौराया स्वार्थ में, अपना राग सुनाय
______________________________

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

ख़ैरख़्वाहों के मुख़्लिस मशवरों का हमेशा इस्तक़्बाल है
शुक्रिया