मेरे ब्लॉग परिवार के सदस्य

सोमवार, 21 दिसंबर 2009

ग़ज़ल
____________________
क्या कहूं कि क्या  बयां पहले हुआ
कुछ यहाँ और कुछ वहां पहले हुआ

मैं ने यकजहती की इक  कोशिश ही की
मेरा साथी बदगुमां पहले हुआ

थी सई जज़्बात पर क़ाबू रहे
पर वो आँखों से रवां पहले हुआ

दुश्मनों से क्या शिकायत हो अगर
दोस्त ही शोला बयां पहले हुआ

अब तो जन्नत दूर मुझ से हो गयी
"क्यों न एहसासे ज़ियाँ पहले हुआ "

जो छिपाना चाहता था उस से मैं
राज़ उस पर ही अयाँ पहले हुआ

मुल्क टुकड़ों में बँटा जाता है ये
ज़ख्म का दरमाँ कहाँ पहले हुआ ?

खौफ़ का माहौल हर सू है 'शेफ़ा'
हाथ में तीर ओ कमां पहले हुआ
_________________________________

यकजहती=एकता , सई =कोशिश ,शोलाबयाँ =नाराज़
ज़ियाँ =हानि, अयाँ =प्रकट ,दरमाँ =इलाज
खौफ़ =डर

10 टिप्‍पणियां:

  1. थी सई जज़्बात पर क़ाबू रहे
    पर वो आँखों से रवां पहले हुआ

    दुश्मनों से क्या शिकायत हो अगर
    दोस्त ही शोला बयां पहले हुआ

    हर शे’र लाजवाब, हर लफ़्ज़ पे दिल बाग-बाग हुआ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह, बहुत खूब इस्मत साहिबा,
    इस बार तो हमारे लिये कुछ कहने की गुंजाइश ही नहीं रही.
    इस एक शेर में-
    मैं ने यकजहती की इक कोशिश जो की
    मेरा साथी बदगुमां पहले हुआ
    समाज के हालात समेट कर रख दिये आपने..
    और ये-
    दुश्मनों से क्या शिकायत हो अगर
    दोस्त ही शोला बयां पहले हुआ..
    हमें अपना एक शेर याद दिला गया
    अर्ज़ है-
    खंज़र था किसके हाथ में ये तो पता नहीं
    हां,दोस्त की तरफ से मैं ग़ाफिल ज़रूर था.
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब !

    अब तो जन्नत दूर मुझ से हो गयी
    "क्यों न एहसासे ज़ियाँ पहले हुआ "

    उत्तर देंहटाएं
  4. *ajay ji bahut bahut shukriya
    *vandana,shukriya protsahit karne ke liye
    *shahid sahab,apka sher bahut umda hai ,aur apki tippani ka andaz bhi
    *shkriya arkjesh ji

    उत्तर देंहटाएं
  5. खौफ़ का माहौल हर सू है 'शेफ़ा'

    हाथ में तीर ओ कमां पहले हुआ
    har sher yahan bahut khoob hua ,
    kavayanjali par tumahara intjaar khoob hua ,magar aana abhi tak nahi hua ,apne jab tak rai na de rachna saarthak nahi hoti ,aur kami jo samjhaye to sudhar me sahayak hogi ,itna behtar to nahi likh sakti ,kalam jahan tak chahti chal rahi saath saath ....doston ki khushiyon ki khatir chal diye in rahon par ,achchha hi hoga ye khyaal liye kahi .

    उत्तर देंहटाएं
  6. ांअपके ब्लाग का आज लिन्क मिला। बहुत देर से ही सही मगर गज़ल के लिये सही जगह पर आयी हूँ। गज़ल की ए बी सी सीख रही हूँ तो दिग्ग्ज़ों के पढने का सुभाग्य मिल रहा है। लाजवाब गज़ल है हर एक शेर काबिले तारीफ है धन्यवाद नये साल की मुबारकवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  7. jyoti ji ,dhanyavad main yahan nahin thi ,ab a gayi hoon to kavyanjali par bhi zaroor aoongi
    *nirmala ji saubhagya to mera hai jo ap jaisi sahityakar ki tippani mujhe mili bahut bahut shukriya lekin main apko batana chahti hoon ki main diggajon ki shreni men nahin ati abhi to sahi tarah se akshron ki pahchan bhi nahin hui hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. थी सई जज़्बात पर क़ाबू रहे
    पर वो आँखों से रवां पहले हुआ

    लाजवाब शेर...तारीफ़ की हदों के बहुत बाहर...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्छे शेर हैं।
    ये वाला खासकर:
    दुश्मनों से क्या शिकायत हो अगर
    दोस्त ही शोला बयां पहले हुआ

    उत्तर देंहटाएं

ख़ैरख़्वाहों के मुख़्लिस मशवरों का हमेशा इस्तक़्बाल है
शुक्रिया